तुलसी के 10 अद्भुत फायदे जिन्हे जानकर आप प्रसन्न हो जायेंगे

तुलसी के 10 अद्भुत फायदे जिन्हे जानकर आप प्रसन्न हो जायेंगे

तुलसी के पेड़ से अधिकतर लोग अच्छी तरह वाकिफ होंगे। भारत में ज्यादातर हिन्दू इसे अपने घर में रखते हैं और तुलसी की पूजा भी करते हैं। इसलिए तुलसी को अंग्रेजी में Basil के नाम से भी जाना जाता है जिसका मतलब है पवित्र। तुलसी की पवित्रता को देखते हुए आज भी इसके पौधे पर झूठे मुँह या बिना नहाए पानी भी नहीं डाला जाता है। 

तुलसी के पूजनीय होने के पीछे इसके धार्मिक कारण तो हैं ही परन्तु क्या आप जानते हैं तुलसी का पौधा स्वास्थ्य के लिए भी किसी आयुर्वेदिक जड़ी बूटी से कम नहीं है। जी हां बता दें तुलसी के बेशुमार स्वास्थ्यवर्धक फायदे भी इसे पूजनीय योग्य बनाते हैं। 

आज हम आप से तुलसी के कुछ ऐसे गुणों की बात करेंगे जिन्हे सुन कर आप आश्चर्यचकित रह जाएंगे। तुलसी के ये गुण आपको कई बिमारियों और त्वचा संबधी समस्यों में फायदेमंद साबित होंगे। तो चलिए अब तुलसी के स्वास्थ्यवर्धक फायदों की तरफ अपना रुख करते हैं।

तुलसी के 10 फायदे

1. जुकाम में तुलसी दिलाए राहत 

सर्दी और जुकाम में तुलसी का उपयोग सदियों से होता चला आ रहा है। पहले के समय में जब एलोपैथिक दवाएं नहीं होती थीं तब ज्यादातर लोग तुलसी के पत्तों का कड़ा बना कर सर्दी जुकाम में उपयोग करते थे। बता दें आज भी तुलसी मौसमी बदलाव के कारण होने वाले सर्दी जुकाम में काफी प्रभावी है। यह ना सिर्फ आपका झुकाम ठीक करने की शक्ति रखती है बल्कि सर्दी जुकाम के कारण होने वाले बुखार से भी राहत दिलाती है।

2. कोलेस्ट्रॉल स्तर को करे संतुलित 

कोलेस्ट्रॉल का बढ़ जाना एक गंभीर समस्या मानी जाती है। इससे दिल को बड़ा खतरा रहता है। अगर आप इस समस्या से बचना चाहते हैं तो तुलसी का उपयोग शुरू कर सकते हैं। तुलसी के पत्तों में ऐसे जैविक गुण पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल के बढ़ते हुए स्तर को सामान्य करने में मददगार साबित होते हैं।

3. सूजन को कम करने में है उपयोगी 

हाथ पैरों में सूजन की समस्या कई लोगों के साथ देखी जा सकती है। अगर आपको भी यह दिक्कत है तो आप तुलसी का इस्तेमाल शुरू करें। बता दें कि तुलसी में एंटी बैक्टीरियल और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो सूजन को कम करने में प्रभावी होते हैं।

4. वजन कम करने में करे सहायता 

आप ने शायद सुना होगा रामायण काल में एक बार माता सीता हनुमान जी को भोजन करवा रही थी। तब काफी खाने के बाद भी जब हनुमान जी की भूख शांत नहीं हुई थी तो माता सीता ने उन्हें खाने में तुलसी डाल कर खिलाई थी जिससे तुरंत ही हनुमान जी की भूख शांत हो गयी थी। बता दें तुलसी का महत्व तब से ही बहुत रहा है। कहते हैं तुलसी में फाइबर और कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जो पेट को भरा महसूस करवाते हैं। इससे व्यक्ति को अपना वजन संतुलित रखने में सहायता मिलती है।

5. इम्युनिटी बढ़ाने में है कारगर

आज कल कई तरह की बीमारियां फ़ैल रहीं हैं। ऐसे में बीमारियों से लड़ने के लिए व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) का अच्छा होना जरूरी है। बता दें कि तुलसी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में काफी मदद करती है। इसमें पाए जाने वाले तत्व एंटीबायोटिक गुण आपके शरीर को कई जीवाणुओं से लड़ने में सहायता करते हैं। यही वजह है की कई आयुर्वेदिक इम्युनिटी बूस्टर दवाओं में तुलसी का उपयोग देखा जा सकता है।

6. तुलसी से करें खुजली को दूर

त्वचा संबंधी समस्याओं में से खुजली भी एक बहुत ही गंभीर समस्या है। अगर समय रहते खुजली को नहीं रोका गया तो यह बहुत ही खतरनाक रूप धारण कर सकती है। इसलिए जल्द से जल्द इसका उपचार करना जरूरी है। बता दें खुजली में तुलसी बहुत ही फायदेमंद मानी जाती है। तुलसी में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं जो फंगल बीमारी जैसे की दाद-खाज, खुजली से छुटकारा दिलाने में प्रभावी होते हैं।

7. कैंसर से करे बचाव  

कैंसर जैसे खतरनाक रोग से पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है। कैंसर रोग से हर साल कई व्यक्तियों की मौत भी हो जाती है। ऐसे में इस गंभीर बिमारी से शरीर का बचाव करना बहुत जरूरी हो गया है। तुलसी कैंसर से बचाव करने में मददगार साबित होती है। तुलसी में पाए जाने वाले फोटोकेमिकल्स ही स्किन, लिवर और लंग कैंसर से शरीर का बचाव करते हैं।

8. गले की खराश को करे ठीक 

कई वजहों से गले में खराश की समस्या अक्सर लोगों को होती रहती है। ऐसे में हमारे घर के बड़े बुजुर्ग अक्सर तुलसी के पत्तों से बनी चाय पीने की सलाह देते हैं। आपको बता दें यह तरीका वाकई बेहद कारगर है। दरअसल तुलसी में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट तत्व गले की खराश को दूर करने में फायदेमंद होते हैं।

9. लिवर स्वस्थ रखने में है लाभकारी

लीवर की खराबी कई गंभीर समस्याओं को पैदा कर देती है। इसलिए लीवर को अच्छा रखना अति आवश्यक है। लीवर को स्वस्थ्य रखने के लिए आप अपने भोजन के साथ साथ तुलसी का सेवन करना भी शुरू करें। तुलसी में कई ऐसे गुड़कारी तत्व पाए जाते हैं जो ना सिर्फ लीवर को मजबूत बनाते हैं बल्कि थाइरोइड, गैस और लीवर से जुड़ी कई समस्याओं में भी लाभकारी सिद्ध होते हैं। 

10. रक्त शर्करा को रखे संतुलित

मधुमेह की समस्या में व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है जो कई बार घातक साबित होती है। मधुमेह की समस्या से पूर्णतः छुटकारा तो नहीं पाया जा सकता परन्तु इस पर नियंत्रण जरूर किया जा सकता है। बता दें तुलसी रक्त शर्करा को संतुलित रखते हुए मधुमेह की समस्या में एक उपयोगी जड़ी बूटी साबित होती है। यही वजह है की आयुर्वेद में भी डायबिटीज वाले मरीज को तुलसी के पत्ते चबाने की सलाह दी जाती है।

तुलसी के 10 लाजवाब फायदे – यह अतिथि लेख अमित त्यागी जी द्वारा लिखा गया हैं एवं प्रकति इंडिया द्वारा केवल प्रेषित किया गया हैं